Snapdeal क्या है और स्नैपडील कंपनी का मालिक कौन है – What Is Snapdeal In Hindi

Rate this post

दोस्तों, आपका एक बार फिरसे स्वागत है हमारे आज के नए लेख Snapdeal क्या है (What Is Snapdeal In Hindi) और स्नैपडील कंपनी का मालिक कौन है Snapdeal कंपनी से जुड़े सारे सवालो का जवाब आज के इस लेख में हम आपको विस्तार में जानकारी देने वाले है तो इस लेख को पूरा पढ़ें क्यूंकि इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको Snapdeal Kya Hai In Hindi इसके बारे में सब कुछ पता चल जायेगा।

आज के समय में इंटरनेट और समर्टफोने भारत देश में हर एक व्यक्ति के पास होता है और रोज़ अपने स्मार्टफोन से इंटरनेट का इस्तेमाल भी करता है। इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ने से आज हमारी ज़िन्दगी में बहुत सारी तब्दीली आयी है। आज हम इंटरनेट की मदद से घर पर बैठे अपने समर्टफोने से ऑनलाइन शॉपिंग करते है।

इंटरनेट की वजह से ही आज हर कोई ऑनलाइन शॉपिंग कर रहा है। और ऐसी इंटरनेट पर बहुत सारी वेबसाइट मौजूद है जिनमे से एक Snapdeal नाम की  वेबसाइट भी है जो आज के समय में भारत देश में सबसे बड़ा ऑनलाइन शॉपिंग करने का जरिया है। ईकॉमर्स कम्पनीज आने की कारण हमें अगर कुछ भी सामान खरीदना होता है तो हम ऑनलाइन आसानी से स्नैपडील और अन्य जैसे बड़ी ईकॉमर्स वेबसाइट से खरीद लेते है और कुछ ही दिनों वो अपने घर पर डिलीवर भी हो जाती है।

आज हमें इंटरनेट पर ऑनलाइन शॉपिंग के लिए बहुत सी ईकॉमर्स वेबसाइट जैसे Snapdeal, Amazon, Flipkart और Myntra लेकिन आज हम आपको इनमे से एक बहुत ही मशहूर इ-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील के बारे में बात करेंगे जिससे जुड़े सारे सवालो के जवाब इस लेख में विस्तार में देने वाले है। तो चलिए ज़्यादा देर न करते Snapdeal क्या है (What Is Snapdeal In Hindi) इससे इस लेख की शुरुआत करते है।

Snapdeal क्या है – What Is Snapdeal In Hindi

Snapdeal Kya Hai In Hindi, स्नैपडील भी बिलकुल Amazon की तरह एक भारतीय ईकॉमर्स वेबसाइट है। इसकी वेबसाइट की शुरुआत 4 फेब्रुअरी 2010 में दो दोस्त कुनाल बहल और रोहित बंसल के द्वारा की गयी थी। इस वेबसाइट पर हम आसानी से अपने मन पसंद की चीज़ को खरीद सकते है और अपने घर डिलीवर करा सकते है। आसान शब्दों में ये वेबसाइट अपने ग्राहकों ऑनलाइन शॉपिंग करने की सुविधा देती है।

Snapdeal पर आपको बहुत सारी केटेगरी में अलग अलग टाइप के प्रोडक्ट बहुत ही कम दामों में मिल जाते है। Snapdeal की ग्राहक को बढ़त देखते 27 अप्रैल 2012 में स्नैपडील के मालिक के द्वारा इसके लिए एक Snapdeal App भी लांच किया गया और आज के समय में हम Snapdeal को वेबसाइट और App दोनों तरीको से इस्तेमाल कर सकते है।

जबसे स्नैपडील कंपनी ने अपना App लांच किया है तबसे लेकर अभी तक इस App को पुरे भारत में गूगल प्लेस्टोरे से 10 करोड़ से भी अधिक लोग इसे डाउनलोड कर चुके है। और इस App को लोगो की तरफ से गूगल पलयस्टोरे पर 4.2 स्टार की रेटिंग भी मिली है। Snapdeal क्या है? What is Snapdeal In Hindi?

ये भी पढ़ें: FIFA World Cup Kya Hai?

स्नैपडील कंपनी का मालिक कौन है – Snapdeal Ka Malik Kaun Hai In Hindi

Snapdeal को 14 फेब्रुअरी 2010 में दो भारतीय कुनाल बहल (Kunal Bahl) और रोहित बंसल (Rohit Bansal) के द्वारा शुरू किया गया था। इस कारण से स्नैपडील कंपनी के मालिक Kunal Bahl और Rohit Bansal है। स्नैपडील एक भारतीय ईकॉमर्स कंपनी है जिसके ज़रिये से लोग अपने घर में बैठे अपने स्मार्टफोन से ऑनलाइन शॉपिंग करते है।

आज भारत देश में सबसे बड़ी ईकॉमर्स कंपनी में स्नैपडील का नाम भी आता है। स्नैपडील पर आपको हर केटेगरी के प्रोडक्ट खरीदने को मिल जाते है। हालाँकि स्नैपडील पर ब्यूटी और फैशन से जुड़े प्रोडक्ट्स ज़्यादा मात्रा में देखने को मिलते है इस लिए अगर आपको फैशन से सम्भंदित सामान और प्रोडक्ट खरीदना है तो आप के लिए स्नैपडील एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

स्नैपडील कहा की कंपनी है – Snapdeal Kaha Ki Company Hai In Hindi

Snapdeal एक ईकॉमर्स कंपनी है और ये भारत देश की एक जानी मानी ईकॉमर्स कंपनी है। जो अपने ग्राहक को ऑनलाइन शॉपिंग की सुविधा प्रदान करती है। स्नैपडील की शुरुआत 2010 दो भारतीय के द्वारा की गयी थी जिनका नाम कुनाल बहल (Kunal Bahl) और रोहित बंसल (Rohit Bansal) के द्वारा नई दिल्ली की गयी थी। और आज के समय में स्नैपडील एक भारत की सबसे बड़ी ईकॉमर्स कंपनी में से एक बन गयी है।

स्नैपडील का मतलब क्या है – Meaning of Snapdeal In Hindi

Snapdeal आज भारत के सबसे बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग बाजार में से एक है जिसे १० करोड़ से भी ज़्यादा लोग इस्तेमाल करते है। गूगल गूगल प्लेस्टोरे पर स्नैपडील को अपने ग्राहकों की तरफ 4.2 की रेटिंग भी मिली है। स्नैपडील की शुरुआत 14 फेब्रुअरी 2010 में एक वेबसाइट के रूप में की गयी थी उसके बाद स्नैपडील की लोकप्रियता को देखते हुए 27 September 2012 में Snapdeal नाम एक App गूगल प्ले स्टोर पर लांच किया गया। जिसे गूगल पलयस्टोरे के अनुसार 10 करोड़ लोगो ने अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड किया है।

स्नैपडील का मतलब ये है की आप इसके ज़रिये से अपने स्मार्टफोन से घर बैठे कुछ भी और किसी केटेगरी से जुड़े चीज़ें आर्डर कर सकते है और वो चीज़ कुछ ही दिनों में आपके घर पर डिलीवर किया जाता है। स्नैपडील का मतलब अपने ग्राहकों को ऑनलाइन शॉपिंग करने की सुविधा आसानी से प्रदान करना होता है।

ये भी पढ़ें: Saving Account क्या होता है?

स्नैपडील की स्थापना कब हुई 

स्नैपडील एक भारतीय ईकॉमर्स कंपनी है जिसकी स्थापना 4 फेब्रुअरी 2010 को भारत के शहर नई दिल्ली में हुई थी। स्नैपडील की स्थापना दो दोस्त कुनाल बहल (Kunal Bahl) और रोहित बंसल (Rohit Bansal) के द्वारा की गयी थी जो स्नैपडील की स्थापना करने से पहले The Wharton School और Indian Institute of Technology Delhi के पूर्व छात्र थे।

स्नैपडील की स्थापना एक डेली डील्स के प्लेटफार्म के रूप में की गयी थी और सितम्बर 2011 में एक ऑनलाइन मार्केटप्लेस बनने के लिए इसका विस्तार किया गया था। जो अब भारत में सबसे बड़ी ईकॉमर्स वेबसाइट में में से एक बन चुकी है। स्नैपडील कंपनी का फोकस value ecommerce segment पर है जो एक ऐसा मार्केटप्लेस जो ब्रांडेड सामान मार्किट के आकार से तीन गुना बड़ा है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

Q: स्नैपडील कंपनी का मुख्यालय कहा है?

Ans: Snapdeal का मुख्यालय नयी दिल्ली भारत में है।

Q: Snapdeal की स्थापना कब हुई थी?

Ans: Snapdeal की स्थापना 4 फरवरी 2010 में हुई थी।

Q: स्नैपडील कहा की कंपनी है?

Ans: Snapdeal भारत देश की एक ईकॉमर्स कंपनी है।

Q: Snapdeal कंपनी का मालिक कौन है?

Ans: Snapdeal कंपनी के कुनाल बहल (Kunal Bahl) और रोहित बंसल (Rohit Bansal) है।

Q: Snapdeal का CEO कौन है?

Ans: Snapdeal के CEO कुनाल बहल है और ये फरवरी 2010 से इस पद पर कार्य कर रहे है।

निष्कर्ष

दोस्तों आज की इस लेख में हमने आपको स्नैपडील कंपनी के बारे में जैसे स्नैपडील क्या है और स्नैपडील का मालिक कौन है इसके बारे में विस्तार में जानकारी देने की कोशिश की है। मुझे उम्मीद है की आपको इस लेख से स्नैपडील कंपनी के बारे में बहुत कुछ नया जानने को मिला होगा और आपको ये लेख अच्छी लगी होगी। अगर आपको इस लेख से कुछ नया जानने को मिला है तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में भी जरूर शेयर करें।

ये सब भी पढ़ें:

Share It

Leave a Comment