What Is Bank In Hindi

बैंक क्या है और बैंक के कितने प्रकार होते है – What Is Bank In Hindi | बैंक के बारे में पूरी जानकारी

Rate this post

What Is Bank In Hindi – दोस्तों, आज हम आपको इस लेख में बैंक क्या है और बैंक के कितने प्रकार होते है इसके बारे में पूरी जानकारी विस्तार में देने वाले है। जब हम पैसो की बात करते है या फिर पैसो के सेफ्टी की बात आती है तो हमेशा हमारे दिमाग में एक ही नाम आता है और वो बैंक है। बैंक एक ऐसी जगह है जहा पर आप पैसो से रिलेटेड सारे काम होते है।

आज के समय में हर व्यक्ति बैंक से किसी न किसी तरीके से बैंक से जुड़ा हुआ है। और आज हर चीज़ में बैंक अकाउंट की जरूरत हमें पड़ती है जिसकी वजह से आज के समय में हर इंसान का एक बैंक अकाउंट तो जरूर होता ही है। इस लिए आज के समय में हर इंसान को बैंक के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। अगर आपको भी Bank Kya Hai In Hindi (What Is Bank In Hindi) और बैंक के कितने प्रकार होते है, बैंक के कार्य, बैंक में कितने विभाग होते है, बैंक का महत्व, बैंक के फायदे और नुकसान क्या ये सब सवालो के जवाब जानना है तो आपको इस लेख को पूरा पढ़े।

इस लेख के माध्यम से हमने आपको बैंक के बारे में पूरी जानकरी विस्तार बताई है, इस लेख में आपको बैंक के बारे में बहुत इम्पोर्टेन्ट जानकरी मिलने वाली है अगर आप इस लेख को पूरा पढ़ते है तो मैं यकीन से कहे सकता हूँ की आपको बैंक के बारे में बहुत कुछ जान जायेगे। तो चलिए ज़्यादा देर न करते हुए बैंक क्या है (What Is Bank In Hindi) से इस लेख की शुरुआत करते है।

बैंक क्या है – What Is Bank In Hindi

इसे समझना ज़्यादा मुश्किल काम नहीं है क्यूंकि बैंक एक ऐसा पैसो का संस्थान होती है, जहा पर लोग अपने पैसो को सेफ जगह पर रखने के लिए आते है यानि बैंक लोगो के पैसो को सेफ रखती है। लोग बैंक में अपने नाम का खाता खोल कर उसमे अपने पैसे को जमा करती है। और उसकी पैसे की सफेटी और और जरूरत पड़ने पर उसे निकल कर इस्तेमाल कर सके।

इसके इलावा बैंक उसी जमा किये हुए पैसे को जरूरत मंद लोगो को लोन की शकल में देती है और फिर उस लोन को वो लोग ब्याज सहित वापस बैंक को को चूका देती है। और दूसरे तरीके से इसे समझे तो बैंक एक ऐसी संस्था होती है जो सर्कार के द्वारा प्रमारित होती है और जनता के पैसो को सुरक्षित जमा करती है। और उन पैसो पर जनता को वो ब्याज देती है और जरूरत मंद लोगो को लोन की शकल पैसो से मदद करती है।

किसी भी बैंक में पैसा जमा करने के लिए एक बैंक अकाउंट की जरूरत होती है। फिर उस व्यक्ति को जिस बैंक में अपना पैसा जमा करना होता है उसे उस बैंक में एक अकाउंट खोलना पड़ता है। कोई भी व्यक्ति बैंक अकाउंट के ज़रिये ही बैंक से पैसे का लैन देन कर सकता है।

बैंक का फुल फॉर्म क्या है – What Is The Full Form Of Bank

क्या अपने कभी सोचा है की बैंक ये वर्ड भी किसी शार्ट फॉर्म है जी हाँ बैंक ये वर्ड Borrowing, Accepting, Negotiating, Keeping, इन चारो वर्ड का शार्ट फॉर्म है।

  • B – Borrowing – उधार लेना 
  • A – Accepting – सुविकार करना 
  • N – Negotiating – बातचीत करना 
  • K – Keeping – अपने पास रखना 

बैंक के कितने प्रकार होते है – Types Of Bank In Hindi

बैंक के वैसे तो बहुत सारे प्रकार होते है लेकिन हम आपको यहाँ पर कुछ प्रमुख प्रकार के बैंक के बारे में ही आपको बताने वाले है जिसे हम सभी को इसके बारे में जानकारी होना चाहिए। आज हम आपको 8 तरह के प्रमुख बैंक के बारे में बताने वाले है। जिनके नाम और लिस्ट हम आपको निचे दे रहे है और फिर उसके बाद उनके बारे में विस्तार में बतायेगे।

  1. Commercial Bank
  2. Scheduled Bank
  3. Co-Operative Bank
  4. Development Bank
  5. Exchange Bank
  6. Payment Bank
  7. Industrial Bank
  8. Central Bank

Commercial Bank:

Commercial Bank को हम हिंदी में व्यापारिक बैंक कहते है। इस प्रकार के बैंक फायदा कमाने वाले बैंक होते है। किसी भी Commercial Bank का मुख्य काम ये होता है की वो लोगो से पैसा जमा करके बड़ी बड़ी इंडस्ट्री और कम्पनियाँ और देश की सरकार को लोन देना है। देश भर की Commercial Bank को Banking Regulating Act 1949 के अंतर्गत रेगुलेट किया जाता है।

किसी भी Commercial Bank को चार भाग में डिवाइड किया जाता है।

  • Public Sector Banks
  • Private Sector Banks
  • Foreign Banks
  • Regional Banks

Co-Operative Banks:

Co-Operative Banks को Co-Operative Societies Act 1912 के अंदर रजिस्टर किया गया है। और इस बैंक को एक चुने हुए Managing Committee के द्वारा चलाया जाता है। एक Co-Operative Bank No Profit – No Loss के फॉर्मूले पर काम करती है। बैंक की ये प्रकार Co-Operative Bank आमतौर से Entrepreneurs, Small Businesses, Industries और  Self Employment के लिए महत्वपूर्ण काम करती है।

Development Bank:

इस प्रकार की बैंक को किसी एक विशेष क्षेत्र में काम करने के लिए स्थापिक किया जाता है। और Development Bank का मुख उद्देश्य उसी क्षेत्र में डेवलपमेंट को बढ़ावा देना होता है। Development Bank अपने एरिया में बड़े बड़े इंडस्ट्री और उञोगपतियो को व्यापार के लिए Long Term लोन देना होता है। जिससे उस एरिया का तेज़ी से विकास हो सके।

Scheduled Bank:

Reserve Bank of India Act 1934 के 2nd Schedule के तहत किसी भी Scheduled Bank को रेगुलेट किया जाता है। Scheduled Bank उस बैंक को कहते है जिसका Paid-Up Capital करीब 5 लाख या उससे ज़्यादा होता है। और ऐसे ही बैंक Scheduled Bank की केटेगरी में आने के काबिल होते है। एक Scheduled Bank हमेशा RBI से Bank Rate पर लोन लेने के लिए काबिल होते है।

Exchange Bank:

बैंक की एक महत्वपूर्ण प्रकार Exchange Bank का मुख्य काम ये होता है की वो किसी भी दूसरे Foreign Currency की Buying और Selling करना होता है। और इसी के साथ में Foreign Bills of Exchange को भी लेना होता है।

Payments Banks:

बैंक का सबसे नया सबसे नया मॉडल Payments Bank है। Payments Banks अभी हाल ही में इसकी शुरुआत हुई है जो एक डिजिटलिज़्ड बैंक है जिसका काम ये है की दूर द्रास के गावों, कस्बो में बैंकिंग की सुविधा पहुँचाना। पेमेंट बैंको को फाइनेंसियल इन्क्लूजन को बढ़ावा देने के लिए खोला गया था जिससे देश का हर व्यक्ति बैंकिंग की सुविधा आसानी से फायदा उठा सके।

Industrial Bank:

इंडस्ट्रियल बैंक, बैंक के वो प्रकार होते है जो इंडस्ट्री में पैसे की ज़रुरत को पूरा करते है। एक इंडस्ट्रियल बैंक का काम किसी भी इंडस्ट्री को डूबने से बचाना होता है जिसके लिए इंडस्ट्रियल बैंक इंडस्ट्री को लोन प्रदान करती है। भारत में इस समय बहुत कम इंडस्ट्रियल बैंक स्थापिक है लेकिन दसूरे देश जैसे चीन, अमेरिका, जापान वैगेरा में ये बैंक बहुत ज़्यादा पॉपुलर है।

Central Bank:

Central Bank उस बैंक को कहा जाता है जो उस देश की सबसे बड़ी बैंक होती है जिस के अंदर देश की सारी बैंक काम करती है। Central Bank का काम देश सारी बैंक को Rule और Regulation देना होता है। किसी भी देश में आपको उस देश की सिर्फ एक ही Central Bank देखने को मिलेगी। Central Bank में पूरी तरह से उस देश की सरकार का कण्ट्रोल होता है। भारत देश का Central Bank का नाम Reserve Bank Of India यानि RBI है।

बैंक कैसे काम करता है – How Does Bank Work In Hindi

अब तक आपको हमने बैंक क्या है (What Is Bank In Hindi) और बैंक के कितने प्रकार होते है इसके बारे में ऊपर विस्तार में जानकारी दी है। अब हम आपको एक बैंक कैसे काम करता है इसके बारे में बताने वाले है।

कोई भी बैंक अपने देश के नागरिको को अनेक प्रकार की सुविधा देता है। मगर किसी भी व्यक्ति को उस बैंक की सुविधा का फायदा उठाने के लिए उस बैंक में सबसे के अकाउंट खोलने की जरूरत पड़ती है। जब वो बैंक किसी भी व्यक्ति का खाता अपनी बैंक में खोलता है तो वो उस व्यक्ति को अपनी बैंक का ग्राहक बना लेता है।

जनता अपने पैसो को सुरक्षित रखने के लिए बैंक में जमा करने के लिए जाती है। जिसे बैंक अपने प्रॉफिट के लिए इस्तेमाल करती है। देश ऐसे कई सारे लोग होते है जिन्हे पैसो की जरूरत होती है तो बैंक वो पैसा उस व्यक्ति को कुछ प्रतिशत ब्याज पर लोन के तौर पर दे देती है। जिससे उस बैंक की अच्छी खासी कमाई हो जाती है।

बैंक के द्वारा लिया जाने वाला ब्याज ही उस बैंक का प्रॉफिट होता है, इसी प्रकार से बैंक पैसे कमाते है। बैंक ब्याज का कुछ प्रतिशत हिस्सा उस पैसे जमाकर्ता के अकाउंट में भी डालता है। जिससे बैंक में पैसे रखने वाले को भी प्रॉफिट होता है।

भारत में बैंक का इतिहास – History of Banking In India In Hindi

भारत देश में बैंक की शुरुआत 1720 में हो गयी थी। भारत में सबसे पहला बैंक Bank Of Bombay जो की सन 1770 में खोला गया था। इसी साल भारत में Bank of Hindustan नाम से एक और बैंक की शुरुआत हुई, लेकिन 1832 में यह बैंक भी बंद हो गया।

सन 1806 में भारत में Bank of Calcutta की शुरुआत हुई थी फिर आगे चल कर State Bank of India के साथ Merge हो गयी थी। State Bank Of India की स्थापना 1 जुलाई 1955 में हुई थी। आज के समय में SBI भारत का सबसे बड़ा पब्लिक सेक्टर बैंक्स बन चूका है। जिसकी पुरे देश में 22000 से भी अधिक ब्रांच है। और इसके इलावा SBI की 36 अलग अलग देशो में 190 अंतरराष्ट्रीय ब्रांच भी है।

Allahabad Bank भारत का सबसे पुराना Public Sector Bank है जिसकी स्थापना सं 1865 में हुई थी। और साल 2020 में Allahabad Bank को Indian Bank के साथ मिला दिया गया था।

आज अपने क्या जाना 

दोस्तों आज हमने आपको इस लेख में बैंक क्या है (What Is Bank In Hindi) और बैंक के कितने प्रकार होते है, बैंक के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में विस्तार में देने की कोशिश की है। हमें उम्मीद है की आपको इस लेख के माध्यम से बैंक के बारे में कुछ न कुछ नया सीखने को मिला होगा। अगर आपको इस लेख के बारे में हमें कुछ कहना है तो आप हमें निचे कमेंट करके बता सकते है।

इन सब को भी पढ़ें:

Share It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top