Taj Mahal Kisne Banaya Tha

ताज महल किसने बनाया था? | Taj Mahal Kisne Banaya Tha?

Rate this post

Taj Mahal Kisne Banaya Tha दोस्तों जब आप ताजमहल को देखने के लिए जाते हैं तो क्या आपके मन में यह सवाल आता है कि ताजमहल किसने बनवाया था, ताजमहल कब बनाया गया था और ताजमहल को बनाने में कितना समय लगा था अगर हां तो आप को ये लेख को पूरा पढ़ना चाहिए क्योंकि आज हम आपको इस लेख में इसी सारे सवाल के बारे में विस्तार में जानकारी देने वाले है। अगर आप भी ताजमहल के इतिहास के बारे में विस्तार में जानने की रूचि रखते हैं तो इस लेख को आखिर तक पूरा पढ़े आपको ताजमहल के बारे में बहुत कुछ नया जानने को मिलेगा।

ताज महल किसने बनाया था, जिसे प्रेम की प्रतिष्ठा कहा जाता है, यह एक वास्तुकला का अद्भुत महानिदेशालय है जो भारत के आगरा में स्थित है। इस महान स्मारक ने अपनी मोहक सुंदरता और रोमांटिक इतिहास के साथ दुनियाभर के लोगों की कल्पना को चित्रित किया है। इस लेख में, हम ताज महल की उत्पत्ति के बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त करेंगे, इसकी मोहक वास्तुकला को खोजेंगे, इसकी निर्माण के पीछे छुपे प्रेम की कहानी को खोजेंगे और इसके सांस्कृतिक महत्व पर चर्चा करेंगे। चलिए, हम ताज महल के आश्चर्यों की खोज में निकलें।

दोस्तों जैसा की आप सभी को पता है कि ताजमहल केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध है और इसे हर साल पूरी दुनिया से लोग देखने के लिए भारत देश में आते हैं। बल्कि आज के समय में ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में से एक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि ताजमहल की खूबसूरती को चांदनी रात में अगर कोई व्यक्ति देख ले तो वह ताजमहल की खूबसूरती को कभी भूल नहीं सकता।

2000 से 2007 के बीच में ताजमहल को सात अजूबों में शामिल करने के लिए पूरे विश्व से लगभग 10 करोड़ से भी ज्यादा लोगों ने वोटिंग किया था जिसके चलते 7 जुलाई 2007 को ताजमहल को सात अजूबों की लिस्ट में ऐड कर लिया गया था। तो चलिए ज्यादा देर ना करते हुए इसलिए की शुरुआत करते हैं ताजमहल को किसने बनाया था (Taj Mahal Kisne Banwaya Tha) इसके बारे मे जानते हैं।

ताजमहल किसने बनाया था? 

ताजमहल को मुग़ल साम्राज्य के पांचवे बादशाह शाहजहां ने बनाया था। दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारत को शाहजहां ने अपनी सबसे ज्यादा पसंदीदा बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। ताज महल को बनाने वाले आर्किटेक्ट का नाम उस्ताद अहमद लाहौरी, इन्होंने ही ताजमहल को कितना खूबसूरत बनाया था। ताजमहल को बनाने की शुरुआत सन 1632 मैं हुई थी और 1652 में जाकर ताजमहल का निर्माण कार्य पूरा हुआ था।

ताजमहल को बनाने में पूरा 21 साल का समय लगा था। जब ताजमहल का काम चल रहा था तो उस समय शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की कब्र को दूसरे स्थान पर रखा गया था, जिसके बाद ताजमहल का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद मुमताज की कब्र को ताजमहल में स्थानांतरित कर दिया गया था। ऐसा कहां जाता है कि जब मुगल साम्राज्य पांचवे राजा शाहजहां की मृत्यु ही तो उनकी कब्र उनकी पतनी की कब्र के पास ही दफना दिया गया था, इसी वजह से ताजमहल को प्यार का प्रतीक माना जाता है जो आज के समय में कहीं देखने को नहीं मिलता है।

ऐसा भी कहा जाता है कि मुगल बादशाह शाहजहां ताजमहल को पहले मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में बनाने वाले थे लेकिन कुछ कारण की वजह से इसे फिर बाद में उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में बनाने का फैसला लिया गया था। ताजमहल का ज्यादातर हिस्सा संगमरमर के पत्थर से बना हुआ है। ताजमहल की इमारत उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में यमुना नदी के किनारे स्थित है और इस इमारत की कुल ऊंचाई 73 मीटर है।

 इमारत का नाम  ताज महल
 निर्माण  सफेद संगमरमर, नीलम, जैस्पर, फिरोजा और क्रिस्टल
 निर्माण का समय  22 साल
 परिसर केंद्र बिंदु  42 एकड़
 किसने बनवाया  मुगल बादशाह शाहजहाँ
 कहा पर स्थित है  उत्तरप्रदेश के शहर शाहजहाँ
 किसकी याद में बनाया गया  शाहजहाँ की पतनी बेगम मुमताज़

ताजमहल कहां स्थित है?

दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारत में से एक ताजमहल आज के समय में भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा जिले में यमुना नदी के किनारे स्थित है। इस इमारत को पहले मध्य प्रदेश की बुरहानपुर में बनाने का फैसला लिया गया था लेकिन फिर बाद में आर्किटेक्ट उस्ताद अहमद लाहौरी की वजह से इसे उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में बनाया गया।

ताज महल को क्यों बनाया गया था?

दोस्तों अभी आप ने इस लेख में ऊपर Taj Mahal Kisne Banaya Tha इसके बारे में विस्तार में जाना है तो इसे पढ़ने के बाद अब आपके मन में ये सवाल आ रहा होगा की ताज महल को क्यों बनाया गया था तो चलिए बा हम आपको बताते है की ऐसा कहा जाता है की मुगल बादशाह शाहजहाँ अपनी तीसरी पत्नी बेगम मुमताज़ से बहुत ही ज़्यादा प्यार करते थे। तो जब उनकी बेगम मुमताज़ का इन्तेकाल हो गया था तो वो उसकी याद में शाहजहाँ ने उनकी याद में ताज महल जैसी इतिहासिक इमारत को बनवाया था।

शाहजहाँ ये चाहते थे की उनकी बेगम की याद कुछ ऐसी चीज़ का निर्माण कराया जाये जो की दुनिया में कोई भी चीज़ वैसी न हो और आगे भी वैसी की ज़ नहीं हो जिससे उनके और मुमताज़ की प्यार को हमेशा दुनिया में याद रखा जायेगा। इस लिए उनकी इसी अरमान की वजह से ताज महल जैसी सुन्दर इमारत का निर्माण हुआ था।

ऐसा भी कहा जाता है की जब उनकी बेगम मुमताज़ की मृत्यु हो रही थी तो मुमताज़ मुगल बादशाह से एक मकबरा बनाने की इच्छा बताई थी इस लिए शाहजहाँ ने उनकी इस अरमान को पूरा करने के लिए भी ताज महल को बनाया था।

ताज महल को कब बनाया गया था?

Taj Mahal Kisne Banaya Tha ये जानने के बाद अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा की आखिर ताज महल का निर्माण कब शुरू किया गया था और कब ये पूरा बनकर कम्पलीट हुआ था तो मैं आपको बतादू की ताज महल को सन 1632 निर्माण कार्य शुरू किया गया था और फिर तजा महल का निर्माण कार्य 1653 में जाकर पूरा कम्पलीट हुआ था। यानि इस का मतलब ये हुआ की ताज महल को पूरा बनाने में करीब करीब 22 साल का समय लगा था।

ताज महल का इतिहास क्या है?

ताज महल को मुगल साम्राज्य के पांचवे बादशाह शाहजहाँ ने अपनी तीसरी बेगम मुमताज की याद में बनाया था। मुमताज के गुजर जाने के बाद उनकी याद में शाहजहां इस सुन्दर इमारत को बनवाया था। ताज महल की ईमारत तकरीबन 73 मीटर लम्बी है। ताज महल भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के शहर आगरा में यमुना नदी के किनारे स्थित है।

ऐसा भी कहा जाता है शाहजहाँ ने इस महल को बनाने वाले सभी लोगो के हाथ को काट दिया था, ताकि जिससे वो कभी दोबारा ऐसी खूबसूरत इमारत को नहीं बना सके। ताज महल को बनाने में लग भग 20,000 से जयादा मजदूरों और 1000 हाथियों को लगाया गया था। उनमे न केवल भारतीय लोग थे बल्कि उसमे तुर्की और फारस के भी लोग थे। ताज महल को बेहद खूबसूरत तरीके से बनाया गया है और इसकी खूबसूरती आज भी वैसी ही है।

ऐसा की भी कहा जाता है की ताज महल तो सफ़ेद रंग का है लेकिन ये दिन कही बार अपना रंग बदलता है, सुबह के समय में ये गुलाबी रंग का दिखाई देता है और दोपहर में इसका असली रंग सफ़ेद में नज़र आता है और रात में यह सुनहरा हो जाता है। इसे बनाने में करीब 3.2 करोड़ रुपये खर्च हो गए था।

मुमताज की मौत के बाद शाहजहाँ ने उनकी याद में इस ताज महल को बनवाया था। ऐसा भी कहा जाता है मुमताज महल ने मरते हुए इस मकबरा को बनाने की इच्छा ज़ाहिर की थी। मुगल बादशाह शाहजहाँ ने इस ईमारत को बनवाने के लिए बाग्दाद और तुर्की से कारीगरों को बुलाया था। ऐसा माना जाता है की ताज महल बनाने के लिए बाग्दाद से एक कारीगर को बुलाया गया था, जो की पथ्थर पर घुमावदार अक्षरों को उकेर सकता था।

ताज महल में कितने कमरे है?

दोस्तों आपको यह बता दे की ताजमहल के तहखाने में कुल 22 कमरे है। ताजमहल के तहखाने के 22 कमरों में से 4 बड़े और 18 छोटे कमरे है। इसके इलावा इन तहखानों के हर कमरे में जाने का रास्ता बिलकुल अलग है। यानी एक कमरे से दूसरे कमरे में नहीं जा सकते है। इन कमरों में ऊपर से निचे जाने के लिए 6 रस्ते है, जो ताज महल की पहली मंज़िल से जाते है।

ताजमहल को बनाने में कितना रुपया खर्च हुआ था?

दोस्तों अभी तक आपने Taj Mahal Kisne Banaya Tha और ताजमहल के बारे में बहुत कुछ जान लिया है अब आखिरी सवाल आपके मन में या आ रहा होगा कि ताजमहल को बनाने में आखिर कितना रुपया खर्च हुआ था। तो हम आपको बता देती ताजमहल को बनाने में कुल कितना रुपया खर्च हुआ था इसका अंदाजा समय के अनुसार लगाना थोड़ा मुश्किल है। जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है कि ताजमहल को सन 1643 बनाया गया था। अगर उस समय के अनुसार ताजमहल की कीमत निकाली जाए तो इसको बनाने में कम से कम 3 अरब रुपए खर्च हुए होंगे।

ताजमहल किस चीज से बना हुआ है?

जैसा कि आपने बताया है कि ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में भी शामिल किया गया है इसके अलावा 1883 में ताजमहल को यूनेस्को विश्व धरोहर की लिस्ट में भी शामिल कर लिया गया था बस तभी से दुनिया में ताजमहल इतना प्रचलित हो गया। यूनेस्को विश्व धरोहर के रिसर्च के अनुसार ऐसा बताया गया है कि ताजमहल का दाता संगमरमर पत्थर से बना हुआ है जिसका रंग आज भी सफ़ेद है।

ताजमहल की ऊंचाई क्या है?

दोस्तों ताजमहल आज के समय में दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारत में से एक है, जिसकी वजह से आज हर साल भारत में पूरी दुनिया से ताजमहल को देखने के लिए आते हैं। ताजमहल उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में यमुना नदी के दक्षिण में स्थित है। ताजमहल की ऊंचाई नापी गई तो इसकी कुल ऊंचाई 73 मीटर ऊंची देखने को मिली है और यह इमारत 17 हेक्टेयर क्षेत्रों में फैली हुई है।

शाहजहाँ कौन थे?

दोस्तों जैसा कि आपने आपको पर बताया है कि ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां के द्वारा बनवाया गया था। लेकिन क्या आपको पता है कि मुगल साम्राज्य के पांचवे बादशाह शाहजहां का पूरा नाम क्या है, अगर नहीं तो हम आपको बता देती शाहजहां का पूरा नाम अल आजाद अबुल मुजफ्फर शाहब उद-दिन मोहम्मद खुर्रम था।

मुगल बादशाह शाहजहां का जन्म लाहौर के पास खुर्रम नाम की जगह पर 5 जनवरी 1592 में हुआ था और उनकी मृत्यु 22 जनवरी 1666 मैं आगरा में हुई थी। शाहजहां के पिता का नाम जहांगीर था और शाहजहां के बेटे का नाम औरंगजेब था। शाहजहां मुगल साम्राज्य के पांचवे बादशाह थे और शाहजहां भारत में बादशाह के तौर पर तकरीबन 30 साल तक राज किया था।

मुगल बादशाह शाहजहां की 9 पत्नियां थी जिनमें से उनकी सबसे पसंदीदा पत्नी बेगम मुमताज महल थी। शाहजहां का नाम आज के समय में बादशाह से ज्यादा एक आशिक के तौर पर दुनिया भर में प्रचलित है। उन्होंने ही अपनी बेगम की याद में ताजमहल को बनवाया था।

ताजमहल किसकी याद में बनाया गया था?

दोस्तों जैसा कि हमने अभी तक आपको ताजमहल किसने बनाया था (Taj Mahal Kisne Banaya Tha) चलिए हम आपको बताते हैं कि ताजमहल किसकी याद में बनाया गया था?

दोस्तों जैसा कि हमने आपको बताया है कि ताजमहल को मुगल साम्राज्य के पांचवे बादशाह शाहजहां के द्वारा बनाया गया था। शाहजहां ने इस आलीशान इमारत को अपनी 9 पत्नियों में से सबसे पसंदीदा पत्नी बेगम मुमताज महल की याद में बनाया था। ऐसा कहा जाता है कि बेगम मुमताज ने उनकी मृत्यु होने से पहले शाहजहां को आलीशान इमारत बनाने की ख्वाहिश बताई थी।

ताजमहल की निर्माण की प्रक्रिया

ताज महल की निर्माण प्रक्रिया भूमिका निभाती है जो महान योजना, मेहनत और दक्षता को दर्शाती है। प्रारंभिक निर्माण कार्यों में सफेद संगमरमर के ब्लॉकों को अवशेषित किया गया, जिन्हें नदी से लाकर साइट पर चिढ़ाया गया। इसके बाद, नक्काशी और निर्माण कार्य शुरू हुए, जिसमें निर्माण कारीगरों, वास्तुकारों, उस्तादों और कई सैनिकों की टीम शामिल थी। निर्माण प्रक्रिया में कठिनाईयाँ थीं, लेकिन निर्माण कारीगरों ने इनका सामना करते हुए महानता का प्रदर्शन किया।

शाहजहाँ और मुमताज़ की प्रेम कहानी

ताज महल के निर्माण में शाहजहाँ और मुमताज़ की प्रेम कहानी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। मुमताज़ महल शाहजहाँ की पत्नी थीं और उनकी वफ़ात के बाद उन्होंने उनकी याद में इस स्मारक का निर्माण किया। यह प्रेम की कहानी, समर्पण और वफ़ादारी का प्रतीक है और इसे एक रोमांटिक स्मृति बनाती है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवालों के जवाब (FAQs)

Que: ताज महल किसने बनाया था?

Ans: ताज महल को मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने बनवाया था।

Que: ताज महल का निर्माण कब हुआ था?

Ans: ताज महल का निर्माण 1632 ईस्वी में पूरा हुआ था।

Que: ताज महल क्यों महत्वपूर्ण है?

Ans: ताज महल मुग़ल कला, प्रेम की कहानी, और सांस्कृतिक महत्व के कारण महत्वपूर्ण है।

Que: ताज महल की वास्तुकला क्या है?

Ans: ताज महल एक मुग़ल वास्तुकला का उदाहरण है, जिसमें पर्शियन, इस्लामी और भारतीय शैलियों का मिश्रण है।

Que: ताज महल की विशेषताएं क्या हैं?

Ans: ताज महल की विशेषताएं मेहराब, मिनारें, कैलीग्राफ़ी, बगीचे और सुंदरता की मोहकता हैं।

Que: ताज महल का इतिहास क्या है?

Ans: ताज महल का निर्माण शाहजहाँ द्वारा उनकी पत्नी मुमताज़ की याद में किया गया था, और इसे 17वीं सदी में निर्मित किया गया था।

Que: ताजमहल का पूरा नाम क्या है?

Ans: ताजमहल का पूरा नाम “रौज़ा-ए-मुनव्वर” है, जिसका मतलब हिंदी में जगमगाता हुआ मकबरा होता है।

Que: ताज महल कितने लोगों ने बनाया?

Ans:  ताजमहल को बनाने के लिए तकरीबन 20 हज़ार मजदूरों ने काम किया था।

निष्कर्ष

ताज महल भारतीय वास्तुकला का एक अद्वितीय और शानदार उदाहरण है। इसकी विशेषताएं, वास्तुकला, और प्रेम की कहानी इसे एक अनुपम स्मारक बनाती हैं। ताज महल की यात्रा एक रोमांचक अनुभव है जो आपको विश्वास्त्र की सुंदरता के साथ मुग़ल सम्राटों के प्रेम की कहानी का अनुभव कराती है। इस दिव्य स्मारक की यात्रा करें और इसके चमत्कारों को आत्मसात करें। दोस्तों अगर आपको यह लेख Taj Mahal Kisne Banaya Tha अच्छी लगी है तो और इसलिए कुछ नया जानने को मिला है तो इसलिए तो अपने दोस्तों रिश्तेदारों में भी शेयर करें।

इन सब को भी पढ़ें:

Share It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top