Surya Grahan Kab Hai 2024: जानिए किस दिन लगेगा साल 2024 का पहला सूर्य ग्रहण, और भारत में दिखेगा या नहीं

Rate this post

Surya Grahan Kab Hai 2024 – दोस्तों आज की इस लेख में हम आपको इस नए साल का पहला पहला सूर्य ग्रहण कब लगने वाला है और क्या यह सूर्य ग्रहण भारत में भी देखने को मिलेगा या नहीं इसके बारे में विस्तार में जानकारी देने वाले हैं। तो अगर आप भी इसके बारे में जानना चाहते हैं तो इसलिए को हमारे साथ अंत तक जरूर पढ़े

क्योंकि इस लेख में हम आपको सिर्फ यह नहीं बताएंगे कि 2024 में पहला सूर्य ग्रहण कब लगेगा बाल के सूर्य ग्रहण के बारे में जानकारी जैसे सूर्य ग्रहण क्या होता है और यह कितने प्रकार के होते हैं और साल में यह कितनी बार लगते हैं इन सब के बारे में भी जानकारी देने वाले हैं।

दोस्तों जैसा कि आप सभी को पता है कि सूर्य ग्रहण को भारत में एक खगोलीय और धार्मिक महत्व दिया जाता है। जिसकी वजह से भारत में सूर्य ग्रहण को लेकर बहुत सारी धार्मिक मान्यताएं है वही दूसरी तरफ भारत में इसे वैज्ञानिक सूर्य ग्रहण के दौरान कई तरह के अध्ययन कर के सूर्य के बारे में वैज्ञानिक जानकारियां जुटाते है। तो चलिए ज्यादा देर ना करते हुए अब हम इस लेख की शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि सूर्य ग्रहण क्या होता है।

Surya Grahan Kab Hai 2024 – 2024 में सूर्य ग्रहण कब लगेगा?

दोस्तों सूर्य ग्रहण क्या है इसके बारे में विस्तार से जानने से पहले आपको 2024 में सूर्य ग्रहण कब लगेगा (Surya Grahan Kab Hai 2024) इसके बारे में बता दे की 2024 का सबसे पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) अप्रैल के महीने में लगने वाला है। नासा के अनुसार इस साल का सबसे पहला सूर्य ग्रहण 8 अप्रैल 2024 को लगेगा आर्य सूर्य ग्रहण पूर्ण सूर्य ग्रहण (Total Solar Eclipse) होगा। आपको यह भी बता देती पूर्ण सूर्य ग्रहण तब लगता है जब सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा पूरी तरह से आ जाता है तो उसे हम पूर्ण सूर्य ग्रहण कहते है।

2024 का सूर्य ग्रहण कहा कहा दिखेगा?

दोस्तों अभी हमने आपके ऊपर 2024 में सूर्य ग्रहण कब लगेगा (Surya Grahan Kab Hai 2024) के बारे में जानकारी दी है तब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि इस साल का पहला सूर्य ग्रहण क्या भारत में दिखेगा या नहीं और अगर भारत में नहीं दिखेगा तो यह दुनिया के किस-किस हिस्से में दिखने वाला है तो चलिए अब हम आपको इसके बारे में बताते है।

नासा के अनुसार 2024 का सबसे पहला पूर्ण सूर्य ग्रहण पूरे उत्तर अमेरिका में नजर आने वाला है। यह पूर्ण सूर्य ग्रहण सबसे पहले मेक्सिको में प्रशांत तट पर सुबह 11:00 बजे के करीब नज़र आ सकता है। उसके बाद अमेरिका और कनाडा की जनता इस पूर्ण सूर्य ग्रहण को दिन में भी देखे नजर आएंगे। नासा का ऐसा कहना है कि या अमेरिका के 13 राज्यों में नजर आ सकता है। घनी आबादी वाले इन देशों में लाखों लोग अपनी आंखों से आसानी से उसे दिन दस खगोलीय घटना के साक्षी बनेंगे।

सूर्य ग्रहण क्या है?

सूर्य ग्रहण एक ऐसा घटना है जब चंद्रमा सूर्य की किरणों को पूरी तरह से अथवा आंशिक रूप से ढक लेता है, जिससे सूर्य की प्रकाशमयी किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंचती हैं। यह एक आकाशीय घटना है जो अक्सर धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व के साथ जुड़ी होती है। सूर्य ग्रहण के समय चंद्रमा धूप के क्षेत्र में आता है और सूर्य को अवरुद्ध कर लेता है, जिससे सूर्य की रोशनी पूरी तरह से या किसी हिस्से में छुप जाती है।

यह घटना केवल चंद्रमा के ग्रहण क्षेत्र में व्याप्त होती है और समय की चरम सीमा में होती है, जिसका प्रभाव देशों और क्षेत्रों के आधार पर अलग-अलग होता है। इसे विशेष रूप से आस्ट्रोनोमी और ज्योतिष के क्षेत्र में गहरे महत्व के साथ जोड़ा जाता है और इसे धार्मिक आधार पर भी महत्वपूर्ण माना जाता है।

क्या भारत में नज़र आएगा इस साल का सूर्य ग्रहण?

दोस्तों अभी हमने आपके ऊपर इस लेख में 2024 में Surya Grahan Kab Hai 2024 और सूर्य ग्रहण क्या है और इस साल का सूर्य ग्रहण कहां-कहां देखने मिलेगा इन सब के बारे में विस्तार में जानकारी दी है तो अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि आखिर क्या इस साल का सूर्य ग्रहण भारत में देखने को मिलेगा या नहीं तो हम आपको बतादे।

2024 साल का पहला पूर्ण सूर्य ग्रहण जो 8 अप्रैल को लगने वाला है वह भारत में नजर नहीं आने वाला है। इस साल का सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखने के कारण सूर्य ग्रहण का सूतक प्रभाव लागू नहीं होगा और ना ही इसका कोई धार्मिक महत्व होता। आमतौर पर ऐसा देखा जाता है कि सूर्य ग्रहण लगने के 12 घंटे पहले से सूतक काल शुरू हो जाते हैं इसी दौरान भारत में पूजा पाठ और मांगलिक कार्य करने की मनाई होती है।

क्यों ख़ास है इस साल का सूर्य ग्रहण?

दोस्तों इस साल का पहला सूर्य ग्रहण जो 8 अप्रैल को लगने वाला है वह इसलिए खास है क्यूंकि ये पूर्ण सूर्य ग्रहण होने वाला है जो कई मामलों में खास होता है। 7 साल में दूसरी हो रही इस खगोलीय घटना में ग्रहण लगने के समय सूर्य के अपने पीक पीठ एक्टिविटी पर होगा। इससे पहले साल 2017 में सूर्य ग्रहण सूर्य के को एक्टिविटी के दौरान लगा था। जिससे वैज्ञानिकों के अनुसार इस बार पूर्ण सूर्य ग्रहण में कोरोना की संरचना बहुत अधिक होने वाली है।

कितने प्रकार के सूर्य ग्रहण होते है?

Surya Grahan Kab Hai 2024 में इसके बारे में जानने के बाद आपके मन में अब यह सवाल आ रहा होगा कि सूर्य ग्रहण कितने बार प्रकार के होते हैं हम आपको बता दे की सूर्य ग्रहण विभिन्न प्रकारों में हो सकते हैं। इनमें प्रमुख तीन प्रकार के सूर्य ग्रहण शामिल हैं:

पूर्ण सूर्य ग्रहण (Total Solar Eclipse):

इसमें चंद्रमा सूर्य की पूरी रौशनी को ढ़क लेता है और सूर्य की तीन अंगुलियों को पूरी तरह से अवरुद्ध कर देता है। यह एक अद्वितीय और पूर्ण समय की घटना है जो समय-समय पर होती है।

आंशिक सूर्य ग्रहण (Partial Solar Eclipse):

इसमें चंद्रमा सूर्य की किरणों को पूरी तरह से नहीं ढक पाता है और सूर्य का केवल कुछ हिस्सा अवरुद्ध होता है। इसे आंशिक सूर्य ग्रहण कहा जाता है और यह अधिकांश देशों से देखा जा सकता है।

कुंभ सूर्य ग्रहण (Aquarius Solar Eclipse):

इसमें चंद्रमा सूर्य की किरणों को नहीं ढ़क पाता है, किंतु चंद्रमा और पृथ्वी के बीच का अंतरदृष्टि बना रहता है, जिससे सूर्य का केवल एक हिस्सा ही अवरुद्ध होता है। इसे कुंभ सूर्य ग्रहण कहा जाता है और यह विशेषकर व्यापक इलाकों में देखा जा सकता है।

इन सब को भी पढ़ें:

Share It

Leave a Comment