Internet Banking क्या होता है इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार, फायदे और नुकसान

Internet Banking क्या होता है? इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार, फायदे और नुकसान। Internet Banking In Hindi

Rate this post

हेलो दोस्तों, आज के इस लेख में हम आपको Internet Banking क्या है? इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार, फायदे और नुकसान (Internet Banking In Hindi) के बारे में विस्तार में जानकारी देने वाले है। आज के समय में जिसे हम Internet Banking, ऑनलाइन बैंकिंग, ई-बैंकिंग और वर्चुअल बैंकिंग के नाम से भी जानते है जो एक डिजिटल तरीके से पैसो का लेन देन करने का ऑनलाइन बैंक है।

Internet Banking Kya Hai In Hindi: जब कभी हम कोई भी बैंक में अपना सेविंग अकाउंट खोलने के लिए जाते है तो हमारे पास Internet Banking का एक साधन होता है जिसे सेलेक्ट करने पर हम अपनी काम डिजिटल बैंक के ज़रिये भी कर सकते है। और आज के समय में ये तरीका बहुत ही आम हो गया है। और Internet Banking के ज़रिये से कोई भी व्यक्ति देश के किसी भी जगह पर बैठे अपने बैंक का काम आसानी से इसकी मदद से कर सकते है।

Internet Banking एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसकी मदद से कस्टमर वो सभी काम अपने मोबाइल से कर सकता है जिसके लिए उसे बैंक में जाना पड़ता था। और घंटो बैंक में नंबर लगाना पड़ता था। लेकिन जबसे ये सुविधा भारत में शुरू हुई है तबसे भारत के लोगो को इसकी मदद से अब कोई भी बैंक का काम अपने मोबाइल से चाँद मिंटू में कर सकते है।

अगर आप भी इंटरनेट बैंकिंग के बारे में और जानना चाहते है जैसे Internet Banking क्या होता है और इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार, फायदे और नुकसान, इंटरनेट बैंकिंग कैसे की जाती है, नेट बैंकिंग से क्या क्या कर सकते है इसके के बारे में आज हम आपको इस लेख में विस्तार में बताने वाले है तो आखिर तक इस लेख पढ़ना आपको कुछ नया ज़रूर सीखने को मिलेगा।

Internet Banking क्या होता है – Internet Banking In Hindi

Internet Banking को Net Banking और Online Banking के नाम भी जाना जाता है। इंटरनेट बैंकिंग के ज़रिये से आप और हम में कोई भी फाइनेंसियल और नॉन फाइनेंसियल ट्रांसेक्शन कर सकते है। इंटरनेट बैंकिंग के आ जाने से हम जो काम करने के लिए पहले बैंक जाना जरूरी होता था अब वही काम ऑनलाइन डिजिटल तरीके से अपने मोबाइल पर घर में बैठे कर सकते है।

Internet Banking दो शब्दों Internet + Banking से मिल कर बना हुआ है। इंटरनेट बैंकिंग की मदद से हम अपने पैसे ट्रांसफर करना, Receive करना, जमा करना, इलेक्ट्रिसिटी बिलो की भुगतान करना, अपने बैंक अकाउंट का सारा काम घर बैठे ऑनलाइन तरीके से कर सकते है।

Internet Banking को हम इस तरीके से भी समझ सकते है की इंटरनेट बैंकिंग एक ऑनलाइन बैंकिंग सर्विस है जिसमे कोई भी व्यक्ति या कंपनी इंटरनेट की मदद से बैंक का सारा काम अपने मोबाइल से करता है। इंटरनेट बैंकिंग उन लोगो के लिए बहुत फायदेमंद है जिन लोगो के पास बैंक जाने का समय नहीं रहता है ऐसे लोग अपने कंप्यूटर या मोबाइल के द्वारा पैसो को एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करने के साथ ऑनलाइन खरीदारी का पेमेंट भी कर सकते है।

इंटरनेट बैंकिंग के लिए आपके पास एक किसी भी बैंक का अकाउंट, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कंप्यूटर, स्मार्टफोन, टेबलेट और उसमे इंटरनेट की सुविधा होनी ज़रूरी है। जिसके बाद आप अपने बैंक के नेट बैंकिंग आप्लिकेशन को डाउनलोड करके इसमें अपने अकाउंट को रजिस्टर करके इसकी सुविधा उठा सकते है।

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करे – How To Use Net Banking In Hindi

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेला करने के लिए आपको सबसे पहले ये काम करना होता है जो निचे दिए हुए है।

  • सबसे पहले आपको एक बैंक अकाउंट खोलना होता है फिर उसके बाद आपको इंटरनेट बैंकिंग के लिए अपने बैंक में रजिस्टर करना पड़ता है।
  • किसी भी बैंक में सेविंग अकाउंट रखने वाले व्यक्ति इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर कर सकते है।
  • इंटरनेट बैंकिंग चालू करने के लिए आपके पास एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कंप्यूटर, स्मार्टफोन होना ज़रूरी है और उसमे इंटरनेट की सुविधा अवेलबल हो।
  • बैंक के अप्रूवल मिलने के बाद बनक की तरफ से आपको एक बैंक आइडेंटिटी और पासवर्ड दिया जाता है जिसके उपयोग से कोई भी व्यक्ति इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल में लोग इन कर सकता है।
  • इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल पर लोग इन करने बाद सभी बैंकिंग सेवाओ को एक्सेस किया जा सकता है।

इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार – Types Of Internet Banking

अब तक आपको Internet Banking क्या होता है (Internet Banking In Hindi) और इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करे इसके बारे में आपको पता चल गया है तो अब हम आपको इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार कितने है ये बताने वाले है। Net Banking के काम करने के आधार पर इसके मुख्या रूप से 5 प्रकार है जिसके नाम निचे दिए है।

  1. NEFT
  2. RTGS
  3. IMPS
  4. UPI
  5. E-Check

तो चलिए अब इनके बारे में एक एक करके जानते है के आखिर ये क्या है।

ये भी पढ़ें: eRUPI क्या है और ये कैसे काम करता है?

NEFT (National Electronic Fund Transfer)

NEFT ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने की एक संस्था है जिसमे एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर कर सकता है. NEFT One-To-One Money ट्रांसफर की सुविधा देता है।

NEFT के कारण व्यक्ति, फर्म और कॉरपोरेट कोई भी बैंक शाखा से कोई भी व्यक्ति, फर्म या कॉरपोरेट को इलेक्ट्रॉनिक रूप में फंड ट्रांसफर कर सकता है। लेकिन इसके लिए दोनों व्यक्ति के बैंक अकाउंट का NEFT Enable होना चाहिए।

NEFT के द्वारा फंड ट्रांसफर करने के लिए पैसे भेजने वाले के पास पैसे लेने वाले की पूरी बैंक अकाउंट डिटेल जैसे अकाउंट नंबर, अकॉउंट होल्डर का नाम, बैंक ब्रांच नाम, IFSC कोड सभी तरह की पूरी जानकरी होनी चाहिए।

NEFT की सेवा सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक सेवा चालू रहती है। NEFT Realtime में काम नहीं करती है, इसके ज़रिये किया गया पैसा ट्रांसफर होने में कम से कम 2 घंटे लगते है।

RTGS (Real Time Gross Settlement)

RTGS बैंक में पैसे ट्रांसफर करने की एक ऐसी ऑनलाइन बैंकिंग टेक्नोलॉजी है जिसकी मदद से पैसा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में भेजने पर कोई भी टाइम नहीं लगता है। RTGS पेमेंट सेटलमेंट का एक निरंतर और वास्तविक प्रोसेस है जिसमे बिना Netting के फण्ड को आर्डर बय आर्डर तौर पर एक बैंक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में शेयर किया जा सकते है।

RTGS ऑनलाइन पैसा भेजने के सबसे तेज़ तरीका है। इसके ज़रिये से पैसे भेजने पर सबसे 30 मिनट के अंदर ही पैसा लेने वाले के अकाउंट में आ जाता है। RTGS का इस्तेमाल बड़ी रकम को भेजने के लिए किया जाता है। RTGS के ज़रिये एक बार में कम से कम 2 लाख रुपये ट्रांसफर कर सकते है। RTGS करने के लिए भी आपके पास फण्ड लेने वाले के अकाउंट की पूरी जानकारी होना चाहिए।

IMPS (Immediate Payment Service)

अब तक का सबसे तेज़ पैसे ट्रांसफर करने की सुविधा भारत में IMPS देता है। इसके द्वारा आप एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में तेज़ी से पैसे ट्रांसफर कर सकते है। RTGS और NEFT की तरह IMPS के ज़रिये पैसा ट्रांसफर करने में कोई भी दिक्कत नहीं आती है।

IMPS 24×7 अपनी सुविधा पुरे देश में देता है। IMPS मोबाइल, इंटरनेट और ATM के माध्यम से पुरे देश में बैंको के अंदर तुरंत पैसा ट्रांसफर करने का एक बढ़िया उपकरण है जो ना केवल सुरक्षित है, बल्कि बैंकिंग और नॉन बैंकिंग दोनों कामो में किफायती भी है

UPI (Unified Payment Interface)

UPI भारत की एक ऐसी ऑनलाइन बैंकिंग सेवा है जिसमे सेन्डर बिना किसी रिसीवर की बैंक डिटेल लिए केवल सिर्फ मोबाइल नंबर के ज़रिये से बेनेफिशरी के बैंक अकाउंट में पैसे भेज सकता है। UPI की सर्विस 24×7 घंटे उपलब्ध होती है, आप कभी भी UPI के द्वारा पेमेंट कर सकते है।

UPI के द्वारा पेमेंट करने की सुविधा उठाने के लिए आपके मोबाइल में एक UPI आधारित अप्लीकेशन जैसे Phone Pe, Google Pay, Paytm वैगेरा का होना ज़रूरी है। इस एक अप्लीकेशन के द्वारा आप अपने किसी भी बैंक अकाउंट में पेमेंट रिसीव करने और सेंड कर सकते है। छोटे फंड ट्रांसफर करने के लिए UPI एक अच्छा माध्यम है। और इसमें पेमेंट करने पर कसी भी प्रकार का चार्ज नही देना पड़ता है।

E-Check (Electronic Check)

Electronic Check या E-Check के द्वारा इंटरनेट पर किये जाने वाले पेमेंट का एक रूप है जिसे ट्रेडिशन कागज़ भी कहते है। एक इलेक्ट्रॉनिक चेक में मानक पेपर चेक की तुलना में अधिक सुरक्षा होती है, और इसमें पैसे ट्रांसफर करने करने में लगने वाला समय भी काफी कम होता है।

इंटरनेट बैंकिंग के फायदे – Advantages Of Internet Banking In Hindi

Internet Banking के बहुत सारे फायदे है जिनमे से कुछ प्रमुख्य फायदे के बारे में हम आपको निचे बता रहे है।

  • नेट बैंकिंग के द्वारा आप बिना बैंक जाये ऑनलाइन मनी ट्रांसफर कर सकते है।
  • आप घर बैठे बैंक का सारा काम अपने मोबाइल से कर सकते है।
  • आप घर बैठे अपने अकाउंट का पासबुक, चेकबुक, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते है।
  • इंटेरेंट बैंकिंग के द्वारा आप ऑनलाइन शॉपिंग करके उसका बिल पाय कर सकते है।
  • इंटरनेट बैंकिंग के ज़रिये से आप घर बैठे बिलो का भुगतान कर सकते है। इसके ज़रिये से आप बहुत्त सारी चीज़ो का रिचार्ज भी कर सकते है।
  • इंटरनेट बैंकिंग ऑनलाइन ट्रांसक्शन का एक सबसे सुरक्षित माध्यम है।
  • इंटरनेट बैंकिंग की वजह से आपकी समय की बचत होती है।

इंटरनेट बैंकिंग के नुक़सानात – Disadvantages Of Internet Banking In Hindi

कहा जाता है की हर चीज़ के दो पहलु होते है तो ऐसे ही इंटरनेट बैंकिंग के भी दो पहलु है जहा इसके बहुत सारे फायदे है वही इसके बहुत सारे नुकसान भी है। इंटरनेट बैंकिंग के कुछ नुकसान अब हम आपको बताने वाले है।

  • इंटरनेट बैंकिंग की वजह से बहुत सारे फ्रॉड हो रहे है।
  • इंटरनेट बैंकिंग की वजह से आज लोगो के पैसे बैंक में भी सेफ नहीं है।
  • इंटरनेट बैंकिंग का सर्वर अगर डाउन है तो ये सिस्टम कार्य नहीं कर पाता है।
  • इंटरनेट बैंकिंग के लिए इंटरनेट ज़रुरत होती है अगर आपके मोबाइल इंटरनेट कनेक्शन नहीं तो आप इसका इस्तेमाल नहीं कर सकते है।
  • अगर आप अपने मोबाइल में इंटरनेट बैंकिंग का ऐप इंसटाल है तो आपको जागरूक होने की जरूरत है।
  • क्यूंकि अगर आपका स्मार्टफोन कोई गलत व्यक्ति हाथ में लग गया तो वो आपके इंटरनेट बैंकिंग का कैसे भी इस्तेमाल कर सकता है।

भारत में किस बैंक की नेट बैंकिंग सबसे अच्छी है

अब अगर आप ये सोच रहे होंगे के आखिर भारत में किस बैंक की नेट बैंकिंग सबसे अच्छी है तो मैं आपको बतादो की वैसे तो सभी बैंक के इंटरनेट बैंकिंग अच्छी है लेकिंग भारत में बैंकिंग टेक्नोलॉजी के मामले में भारत की कोटक बैंक सबसे आगे है और कोटक बैंक ही भारत का सबसे अच्छा डिजिटल बैंक माना जाता है। इसलिए भारत में कोटक बैंक की ही नेट बैंकिंग सबसे अच्छी भी मानी जाती है। कोटक बैंक की नेट बैंकिंग के ज़रिये से आप 5 मिनट के अंदर अंतरास्ट्रीय लेन देन करने में सक्षम होते है।

इंटरनेट बैंकिंग करते समय किन बातो का ध्यान रखे

इंटरनेट बैंकिंग में भी काम ऑनलाइन ही होते है और आपको तो पता है की आज ऑनलाइन की दुनिया कितनी सुरक्षित है इस लिए हमें नेट बैंकिंग का इस्तेमाल बहुत सावधानी से करना चाहिए। इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय हमें कुछ बातो खास ख्याल रखना चाहिए जो हम आपको अब निचे बताने वाल है।

  • कभी भी पब्लिक WiFi और साइबर कैफे जैसी जगह पर इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल ना करे।
  • अपने इंटरनेट बैंकिंग अकाउंट का एक स्ट्रांग पासवर्ड रखिये और अपने नाम और बर्थडे के ऊपर पासवर्ड ना रखें।
  • अपने नेट बैंकिंग पासवर्ड को समय समय पर बदलते रहे। इससे आपका अकाउंट हैक होने का खतरा नहीं होता है।
  • अगर नेट बैंकिंग आपको कभी भी कोई परेशानी आती है या फिर आपको लगता है की आपका अकाउंट इस्तेमाल किया जा रहा है तो तुरंत अपनी बैंक से संपर्क करे।
  • नेट बैंकिंग का इस्तेमाल हमेशा अकेले में करे। कभी भी किसी के सामने अपना UPI पासवर्ड टाइप ना करे।
  • अगर आप कंप्यूटर में नेट बैंकिंग करते है तो एक अच्छे एंटीवायरस का इस्तेमाल अपने कंप्यूटर में इंसटाल करे।

आज अपने क्या जाना

दोस्तों आज हमने आपको इंटरनेट बैंकिंग के बारे में जैसे Internet Banking क्या है (Internet Banking In Hindi) और इंटरनेट बैंकिंग के प्रकार, फायदे और नुक़सानात के बारे में विस्तार में जानकारी दी है मुझे उम्मीद है की आपको इस लेख में इंटरनेट बैंकिंग के बारे में कुछ नया सीखने को मिला होगा। अगर आपको इस लेख में कुछ नया सीखने को मिला है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना मत भूलना।

 इन सब को भी पढ़ें:

Share It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top